Google+ Followers

सोमवार, 28 मार्च 2011

एक पहेली हैं ये ब्लोगर पर ब्लॉग बड़ा सरल

एक पहेली हैं ये ब्लोगर  पर ब्लॉग बड़ा सरल आप भी सोचेंगे मैं यहाँ   पहेली लेकर क्यों बैठ गयी पर परेशान मत होइए क्योंकि आप सब इन महाशय को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं किन्तु इनके जीवन दर्शन शायद अभी आप सभी की पहुँच से बाहर  हैं.हम सभी सत्य की केवल बाते करते हैं किन्तु सम्पूर्ण सत्य की खोज हमारे बस का काम नहीं किन्तु राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ जी ये कार्य बहुत सादगी से कर रहे हैं और साथ ही ये हमारी तरह अपनी  प्रसिद्धि  के  पीछे  पागल  भी  नहीं  हैं   क्योंकि  ये  जो  कुछ  भी  करते  हैं  अपने गुरु  जी  की  छत्र -छाया  में  करते  हैं  इनका ब्लॉग सत्य की खोज हम सभी के लिए पथ प्रदर्शक के समान है .आप सब भी इसका अवलोकन अवश्य करें इनके ब्लॉग का लिंक है-
"http://searchoftruth-rajeev.blogspot.com/"   और ये पोस्ट राजीव जी से भी एक निवेदन करने के लिए  लिखी जा रही है कि अगर आप ब्लॉग जगत को अपना परिवार समझते है तो खुल कर सामने आयें क्योंकि सच सभी के सामने खुला होना चाहिए और सच को किसी परदे की कभी आवश्यकता नहीं पड़ती है .  

3 टिप्‍पणियां:

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

सच कहा आपने शिखा जी !सांच को आंच नही !राजीव जी जेसे इंसान को सामने आना ही चाहिए ...

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA ने कहा…

शालिनी जी आम इंसान गुप्त सन्तमत को नहीं समझता । प्रशंसा प्रतिष्ठा सम्मान ये सब साधु के लिये विष हैं । " मान बङाई ईर्ष्या..लख चौरासी लायँ । बहुत ऊँचाई पर जाकर भी साधु इन तीन दोष से फ़िर नीचे गिर जाते हैं । हाँ..अपना परिचय देने में कुछ गलत नहीं । समय आने पर अवश्य दूँगा ।..हम सभी से आत्मिक प्रेम करते हैं ।..छेङछाङ की टोन में बात करना कालेज टाइम से मेरी आदत है । इसी आदत के चलते तीन साल के बच्चे मुझसे यार कहते हैं । अपने बराबर का महसूस करते हैं । मैं को एजूकेशन में पढा हूँ । वहाँ भी हम छात्र छात्रायें एक दूसरे को मित्र के तौर पर
मर्यादा के अन्दर दोस्ताना अन्दाज में छेङते थे । सौभाग्य से ब्लागिंग में भी मुझे आप जैसे कुछ साथी मिल गये । जिन से हँसी मजाक हो जाता है ।

शिखा कौशिक ने कहा…

rajeev ji ka blog yahan prastut karne ke liye hardik dhanyawad.
rajeev ji kee tippani padhi.samay ka intzar rahega.aakhir vah bhi to kabhi aayega.