Google+ Followers

शुक्रवार, 17 जून 2011

आइये खूबसूरत आवाज़ के ब्लॉग पर- प्रतीक माहेश्वरी

इस ब्लॉग का url है-
  ब्लॉग पर प्रतिक महेश्वरी जी ने अपनी लेखन प्रतिभा को तो पाठकों के समक्ष रखा ही है और अपनी खूबसूरत आवाज़ में कुछ सुन्दर गीत भी लगाये  हैं तो सुनिए और पढ़िए .बहुत खूब प्रस्तुति है.
उनके ब्लॉग की पोस्ट का तो यही आनंद लीजिये 

बृहस्पतिवार, २६ मई २०११


सुख-दुःख के साथी

कॉलेज खत्म होने में बस कुछ ही दिन बाकी थे.. और हर किसी कि तरह सबको ये गम सता रहा था कि अब पता नहीं कब मुलाक़ात हो...
और सही भी था.. एक शहर में रहकर मिलना मुश्किल हो जाता है तो दूसरे-दूसरे शहरों में रहने वालों कि तो बात ही क्या..

राहुल और मोहित काफी अच्छे दोस्त थे पर दोनों कि नौकरी अलग-अलग शहरों में थी... उन्हें भी पता था कि अब किस्मत की बात है जब उनकी अगली मुलाक़ात हो..

कई साल बीत गए और राहुल की सगाई हुई और उसने मोहित को बुलाया.. पर नौकरी में व्यस्त रहने के कारण वह पहुँच नहीं पाया..
राहुल ने शादी में आने की पक्की बात कही और मोहित राज़ी भी हुआ.. पर बिलकुल अंतिम समय में उसे काम से विदेश यात्रा करनी पड़ी और वह फिर से राहुल कि ख़ुशी में शामिल ना हो सका..
अगला शुभ अवसर राहुल की बेटी होना था और इस बार मोहित खुद की शादी होने के कारण नहीं जा पाया..
राहुल को अब बहुत बुरा लगा कि हर ख़ुशी के मौके पर मोहित नहीं आता है पर वह भी इसके लिए कुछ कर नहीं सकता था...

फिर एक दिन कई सालों बाद मोहित राहुल के दरवाज़े पर खड़ा था.. अवसर इस बार भी था पर राहुल ने ज्यादा लोगों को बताया नहीं था.. मोहित को भी नहीं...
राहुल के पिता का निधन हो गया था और उसके सामने मोहित, उसका परम-मित्र खड़ा था उसके साथ, उसके दुःख में..
वह मित्र जो उसकी किसी ख़ुशी में शामिल नहीं हो पाया था पर दुःख में उसके कंधे पर हाथ रख कर सांत्वना देता हुआ खड़ा था...
राहुल ज्यादा कुछ बोल नहीं पाया.. आश्चर्य से कुछ क्षण देखता रहा और फिर रोने लगा.......

और इनकी खूबसूरत आवाज़ में इनके ब्लॉग पर सुनिए''मुसुमुसुहाती दिल..''बहुत अच्छा लग रहा है आप भी यही कहेंगे.

मेरा फोटो
पढ़िए और मुझे बताइए..

ये हैं प्रतीक जी इनसे मिलिए और बताइए क्या मैं सही नहीं कह रही हूँ
                                                                        शालिनी कौशिक


1 टिप्पणी:

शिखा कौशिक ने कहा…

shalini ji bahut achchhe blog ka parichay prastut kiya hai .badhai