Google+ Followers

शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

प्रबंधन के कुछ गैर-पारिभाषिक एवं गैर प्रचलित सूत्र !!


मैं भूत बोल रहा हूँ..........!!

प्रबंधन के कुछ गैर-पारिभाषिक एवं गैर प्रचलित सूत्र !!

प्रिय भाई ,
              तुम्हें मेरा अत्यधिक प्रेम, 
               आज तुमसे कुछ बातें शेयर करने को दिल चाह रहा है,किन्तु आमने-सामने देर तक कुछ कहा जाना और सामने वाले का उसका सूना जाना अब बड़ा दुरूह हो चुका है,इसलिए यह पत्र तुम्हें लिख रहा हूँ कि तुम बड़े इत्मीनान से समय लेकर पढ़ सको,और जब अवसर मिले इसे पढ़कर प्रबंधन के कुछ गुर सीखो और मज़ा यह है कि प्रबंधन के विषय में इस तरह की बातें प्रबंधन की किसी पुस्तक में नहीं बतायी जाती ,मगर मुझे आशा है कि आने वाले दिनों में मेरे इस पत्र को प्रबंधन की पुस्तकों में एक पाठ की तरह शामिल कर लिया जाएगा .
                भाई मेरे,(1) हम जैसे व्यापारी लोग अपने व्यापार के लिए जिस तरह के लोगों से काम लेते हैं,वो ज्यादातर बेहद अकुशल,अशिक्षित और बेहद गंदगी वाले माहौल से आने वाले विवश और गरीब लोग होते हैं,जिन्हें यह पता नहीं होता कि कर्मठता किस चिड़िया का नाम है और किस तरह का आचरण करके आप मालिक की नज़र में एक "अच्छे मजदूर"बन सकते हो,हाँ यह जरूर है कि अक्सर वे ईमानदार अवश्य होते हैं,जिसके कारण वे अपने मालिक के विश्वासपात्र बन जाते हैं (बेशक यह विश्वास कभी भी इस स्तर पर नहीं पहुँच पाता कि मालिक अपना गल्ला उनके हवाले करके पेशाब करने भी जाए,और मैं इसका अपवादस्वरूप हूँ.
                इसलिए भाई मेरे इन्हें काम सिखाना और इनसे  काम लेना कुछ समय तक बहुत कठिन होता है.इनमें कुछ लोग बेहद समझदार भी होते हैं बाकी ज्यादातर तो गैर-समझदार ही,मगर इसका मतलब यह नहीं कि वो मूर्ख ही हों,जैसा कि मालिक लोग समझते हैं ! किन्तु धरती का ऐसा कोई हिस्सा नहीं जहां कि गालियों,लताड़ों,दुत्कारों द्वारा किसी को कोई काम समझाया या सिखाया जा सकता होओ,जहां भी ऐसा होता है,वे मानवीयता की दृष्टि से बेहद शर्मनाक जगहें होती हैं,जिनका मैं कतई कायल नहीं.आपके पास किसी भी गैर-कुशल मजदूर-स्टाफ का रहना आपके एक टीचर होने की डिमांड करता है,ये आप ही हैं,जिसने एक गैर कुशल स्टाफ या मजदूर को दो वजहों से चुना है,
                  एक,या तो आप अपने काम के एवज में उसे यथोचित- उचित या कहूँ कि ज्यादा मेहनताना दे पाने में सक्षम नहीं है,या फिर अपनी कमाई के लालच में उसका शोषण करना चाहते हैं,मगर दोनों ही हालातों में उस मजदूर का चुनाव सिर्फ-व्-सिर्फ आपका और आपका है और इसके लिए आप उस गैर-कुशल अकुशल,अशिक्षित व्यक्ति को ज़रा-सा भी दोष नहीं दे सकते,जिसे आपने अपनी मर्जी,विवशता या लालच के कारण चुना है,इसलिए यह आपका प्रथम एवं अनिवार्य कर्तव्य है कि अब आप उसकी समुचित टीचिंग करें,ना कि रैंगिंग .
                दूसरा,समूची धरती पर मजदूरों या स्टाफों के रूप में छोटे-छोटे बच्चों का उपयोग होता है,जो मेहनत की दृष्टि से उचित,बल्कि अत्यधिक(उनकी क्षमता से काफी अधिक) और मेहनताने की दृष्टि से कमतर तथा प्रताड़ना की दृष्टि से लाज़वाब जान पड़ते हैं,जिन्हें पशुओं से भी बदतर खटाकर बात या लात से प्रताड़ित किया जाता है!अब आप ज़रा यह सोच कर तो देखो कि जिस तरह आप उस बच्चे,जो मजबूरी के मारे अपना घर छोड़कर खेलने-खाने की उम्र में आपके पास काम करने आता है तो उसकी आपसे यह अपेक्षा तो कतई नहीं रहती होगी कि आप उससे पशुओं जैसा व्यवहार करोगे,बल्कि वह जो बच्चा जो किन्हीं भी कारणों से आपके पास है,उसकी अपेक्षा और ईच्छा आपसे अपनी मेहनत के बदले प्यार और सम्मान पाने की होती होगी,जैसा कि आप खुद अपने लिए चाहते हो अपने खुद के काम के एवज में !तो आप यह तो सोचो कि जो आप अपने लिए चाहते हो उससे किसी दूसरे को क्यों वंचित करना चाहते हो,या कर ही डालते हो,महज इसलिए कि आप शिक्षित हो हुनरमंद हो ??तो आप अपना हुनर उसे सिखाओ ना,अपने हुनर या ज्ञान को खुद तक सिमित रखना दुनिया का सबसे बड़ा अहंकार और स्वार्थ है !(इस नाते मैं ये भी मानता हूँ कि व्यापार में जिसे मोनोपोली कहते हैं,वह भी इसी श्रेणी का अहंकार,स्वार्थ और मानवता को शर्मसार करने वाला है,जिसे यह "सभ्य" मनुष्य अपने साथ पता नहीं कैसे चिपटाए हुए है और करते हुए भी वह खुद को सभ्य कहता है !
                बगैर उचित टीचिंग के दुनिया अच्छी नहीं बनायी जा सकती और इसके लिए यह आवश्यक है कि आप किसी भी किस्म के दुराग्रह और कुसंस्कार से दूर हों !अगर आप किसी भी तरह से अपने लिए एक अच्छा समाज चाहते हैं तो आपको हर हालत में खुद को बेहतर,और बेहतर,और बेहतर बनाना ही होगा !आप खुद विगलित रहते हुए कुछ भी अच्छा चाहने का हक़ तक नहीं रखते !
               तीसरा,धरती पर मालिक की जात एकमात्र ऐसी जात है,जो खुद को सदैव बिलकुल सही समझती है,अपने ज्ञान को सही समझती है,मगर अपने ज्ञान को आप सही समझो,यहाँ तक तो ठीक है,मगर दूसरे के ज्ञान को कमतर या तुच्छ समझना यह कहाँ की शरीफी है ?और इसी कारण मैंने देखा है कि कई बार स्टाफ के उचित परामर्श को मालिक महज इसीलिए नहीं मानता कि वह परामर्श एक स्टाफ का है !कई बार स्टाफ का प्रैक्टिकल अप्रोच मालिक की अपेक्षा ज्यादा समीचीन होता है,मगर मालिक उसकी बात ठीक से सुनता तक नहीं अपने मालिक होने के अहंकार या ठसके के कारण....मगर बात यहीं तक जा रूकती तब भी गनीमत थी,मगर होता तो यहाँ तक है कि अपनी उस थेथरई के कारण पनपी समस्याओं को भी नहीं समझते,या समझने का प्रयास तक नहीं करते,दूसरे शब्दों में अपनी गलतियों को ना मानकर भविष्य की बेहतरी के लिए कोई सबक नहीं सीखते !और इस तरह मालिक और-नौकर का रिश्ता बेहद कटुतम होता चला जाता है और मैं चाहता हूँ मेरे भाई,तुम ऐसे कतई ना बनो !!
                 अपने द्वारा किया गया बेहतर से बेहतर काम भी अपने द्वारा की गयी स्वभाववश या अनजानेवश गलतियों के कारण नकारा हो जाता है !मालिक कम-से-कम यह तो सोचे कि हो सकता है कि बेशक खुद वही सही हो,मगर अपने सही होने के कारण उसे किसी को प्रताड़ित करने का हक़ तो नहीं मिल जाता ना !उसे अपने सही होने के तर्क को अपने स्टाफ की भाषा में ही अपने स्टाफ को समझाना होगा,ना फटकारपूर्ण शब्दों में और गलत लहजे का इस्तेमाल करते हुए वह स्टाफ को कुछ कहे !मगर जहां मालिक ही गलत हो वहां स्टाफ क्या करे,किन शब्दों में मालिक को समझाए !!उसके पास तो मालिक वाली भाषा या मालिक वाला संस्कार तो नहीं ना..!!(यहाँ यह जोड़ देना मैं उचित समझता हूँ कि तमाम संस्कार और शिक्षितता के बावजूद मालिक व्यवहार कु-संस्कार वाला करे तो उसे कौन सी कैटेगरी में रखा जाए ??) 
                 इसलिए मेरे भाई जिसे तुम स्टाफ को सर चढ़ाना समझते हो वो मेरे लिए मेरी मानवता है,मेरा संस्कार है ,मेरा चरित्र है और वही सही भी है,ऐसा मेरा मानना है,चाहे इसे कोई माने या ना माने !इस पत्र को पढ़कर मैं आशा करता हूँ कि शायद तुम गैर-कुशल,अशिक्षित श्रमिकों से उचित व्यवहार करना सीखो !इसके लिए सदैव यह ध्यान रखना होगा कि वह तो जो है,सो है,मगर आप तो कुशल हो ना,आप तो शिक्षित हो ना,आप तो संस्कारवान हो ना,आप तो कुशल हो ना !!तब आप अपनी गैर-समझदारी क्यों प्रदर्शित करते रहते हो,आप मालिक हो ना,तो आप मालिक ही रहो ना व्यवहार के निचले तल तक जाकर अपनी तौहीन क्यूँ करवाते हो ?स्टाफ के साथ बगैर उसकी गलतियों के भी उसके साथ गलत व्यवहार करना,स्टाफ को किसी भी बात को भर्त्सनापूर्ण शब्दों में समझाना,यह मालिकियत नहीं नहीं मालिकियत का कुसंस्कार है,जिसे अगर मगर त्याग दे दुनिया के सभी मजदूरों का अपने मालिकों के साथ सुन्दरतम रिश्ता कायम हो सकता है,बाकी ऊपर वाला तो सबका मालिक है ही.....है ना भाई !!
                  पुनश्चः,ये बातें मैं तुम्हें इसलिए लिख सका क्यूंकि मैं समझता हूँ कि तुममे पर्याप्त समझदारी है इन बातों को समझते हुए खुद को तदनुरूप ढाल लेने की,क्योंकि अपने काम में पारंगत होते हुए भी दुनियादारी में गैरव्यवहार-कुशलता बहुत बार आपको नीचा दिखाती हैं,और आप बेहतर होते हुए भी उंचाईयों को नहीं छू पाते ,क्योंकि काम में पारंगतता एक अलग बात है,और अपना आचरण एक दूसरी बात !!आप काम में पारंगत होते हुए भी आचरण में पर्याप्त मधुरता ना होने के कारण उचित मुकाम हासिल करने में अक्षम हो सकते होओ मगर काम में अपारंगत होते हुए भी सुमधुर आचरण से उन्हीं उंचाईयों को प्राप्त कर सकते हो !
                 दुनिया का सबसे बड़ा अस्त्र है मीठी बोली या मधुर आचरण !! 
             

धरती पर बढ़ेंगे अभी और बलात्कार !!


धरती पर बढ़ेंगे अभी और बलात्कार !!

               शीर्षक पढ़कर चौंकिए नहीं क्योंकि तरह-तरह के अध्ययनों के अनुसार जो तथ्य सामने आ रहे हैं उनसे दो बातें स्पष्टया साबित होती हैं,एक,धरती पर पुरुष-स्त्री का लिंगानुपात असामान्य रूप से असंतुलित होता जा रहा है,दूसरा,संचार के तमाम द्रुतगामी साधनों की बेतरह उपलब्धता के कारण आदमी जल्द ही व्यस्क होता जा रहा है,आदमी जहां पूर्व में इक्कीस-बाईस में,फिर सत्रह-अट्ठारह में,फिर पंद्रह-सोलह में और अब तेरह-चौदह वर्ष की उम्र में ही व्यस्क हो रहा है,जबकि लड़कियों में यह उम्र बारह-तेरह की निम्नतम स्तर को छु गयी है !!
                इसका एक मात्र कारण आधुनिक युग के संचार के साधन हैं,जहां अब कुछ भी गोपन नहीं है,पहले जहां किसी प्रकार की कामुक सामग्री बहुत कठिनता से प्राप्त हुआ करती थी,वो भी छपी हुए रूप में,जिसे छिपाना अत्यंत असाध्य हुआ करता था,जिससे ऐसी सामग्री को घर में लाने से कोई किशोर डरा करता था,मगर अब किशोरों की तो क्या कहिये,बच्चे-बच्चे के हाथ में मोबाईल के रूप में चौबीसों घंटे उपलब्ध रहने वाला ऐसा साधन उपलब्ध है,जिसके साथ कोई भी किस चीज़ का आदान-प्रदान कर रहा है,कोई नहीं जान सकता,क्योंकि देख-पढ़ लेने के बाद डीलीट करने के ऑप्शन के कारण आप कुछ भी चिन्हित नहीं कर सकते हो,दूसरी और किशोरों के हाथ में इंटरनेट नामक एक ऐसा हथियार आ चुका है,जिसे वो अपनी क्लास छोड़-छोड़ कर चाहे कितनी ही बार इस्तेमाल करने जा सकते हैं,जाते हैं.मगर अब तो यह मोबाईल में भी चौबीस घंटे उपलब्ध है!!आपने अपने बच्चों के हाथों में ऐसी चीज़ें उपलब्ध करवा दी हैं,जिसका उपयोग अब वो अस्सी से नब्बे प्रतिशत तक अपना यौवन बढाने के लिए ही करते हैं,आप भी अब खुश हो जाईये कि अब आप अपने ही बच्चों का कुछ भी नहीं "उखाड़"सकते!!ऐसे शब्दों का उपयोग मैं इसी कारण कर रहा हूँ,क्यूंकि मैं देख पा रहा हूँ,कि आगे क्या तस्वीर उभर रही है,जिसे बदल पाना हमारे बस के बाहर है दोस्तों !!
                धरती पर पुरुष-स्त्री के असंतुलित होते जाने के बरअक्श आप इस तस्वीर को सामने रखिये तो आपको इसकी भयावहता का अंदाजा लगेगा.एक तरफ कामुक होते किशोर तो दूसरी तरफ घटती स्त्री की आबादी,इन दोनों को एक साथ रखकर देखिये तो बात साफ़ हो जाती है.धरती पर पहले ही पुरुष द्वारा स्त्री पर जबरन किये जाने बलात्कारों की सीमा भयावहतम सीमा को पार कर चुकी है,जो अब रोजाना लाखों की संख्या में है,ऐसे में धरती पर आने वाले दिनों में स्त्री की अनुपलब्धता किस स्थिति को जन्म देने वाली है,इसकी कल्पना भी नहीं जा सकती !!बच्चे जब जल्द युवा होंगे तो उन्हें जल्द ही स्त्री भी चाहिए होगी,और क़ानून या समाज की उम्र की बंदिशें उन्हें यह करने से रोकेंगी,तब ऐसे में क्या होगा??
                  दोस्तों प्रकृति में जो भी कुछ है,वो एक-दुसरे के जीवन-यापन की ही एक भरपूर श्रृंखला है.इस श्रृंखला की अनेकानेक इकाईयों को आदमी अपनी कारस्तानियों के कारण मेट चुका है,मगर अब अपनी ही जाति की व्याप्त बुराईयों की वजह से स्त्री को माँ के पेट में ही नष्ट कर देता है,यह उसकी इस "थेथरई"का ही परिचायक है,कि हम अपने भीतर की बुराईयों को नहीं मिटाएंगे,जिसके कारण हम स्त्री को अजन्मा ही मार डालते हैं,बल्कि स्त्री को ही मार डालेंगे!!सच भी है,ना रहेगा बांस,ना बजेगी बांसूरी...!!
         मगर ओ पागल धरतीवासियों मगर इसी बांसूरी को बजाने के कारण ही तुम्हें सुख भी मिल रहा है,साथ ही धरती भी चल रही है,और तुर्रा यह कि यह सुख तुम्हें शायद चौबीसों घंटे भी मिले तो तुम अघा ना पाओ,तब तो ओ पागल लोगों इस बात को तुम समझो कि इस सुख को पाने के लिए,जिसके लिए ना जाने तुम कितने ही तरह के धत्त्करम करते चलते हो,ना जाने कितने झूठ बोलते हो,धूर्ततायें करते हो,जिस सुख की खातिर तुम्हारे मनीषी,साधू-पादरी और ना जाने कौन-कौन से महापुरुष अपना सम्मान विगलित कर गए!!उसके अनिवार्य माध्यम को मिटा देना तुम्हारी कौन सी समझदारी है,यह तो बताओ !!??
                 प्रकृति में हर-एक चीज़ के होने का कोई-ना-कोई कारण है,उसकी उपादेयता है तथा उसके ना होने से व्यापक हानि भी है,स्त्री के सम्मान-वम्माम को तो मारो गोली,वह तो पता नहीं आदमी कब सीख पायेगा,किन्तु एक जैविक तत्व होने के नाते भर से भी स्त्री की उपादेयता को आदमी अगर ईमानदारी-पूर्वक  समझ भर भी ले तो वह इस अपने लिए इस अनिवार्य जैविक के ना होने से होने वाले नुक्सान को समझ पाने में भी सक्षम नहीं है क्या यह सभ्य-सु-संस्कृत सु-शिक्षित आधुनिक इन्सान..??!!अगर हाँ,तो समस्या का निदान नहीं ही है,ऐसा ही समझिये...मगर मैं तो यह जोड़ना चाहूंगा कि ऐसे आदमी को गधा कहना गधे का भी अपमान होगा....आप क्या कहते हैं दोस्तों....??कुछ आप भी कहिये ना..??    

--
http://baatpuraanihai.blogspot.com/

गुरुवार, 29 सितंबर 2011

अंदाज ए मेरा: बुआ जी की विदाई: साहित्‍य वाचस्‍पति श्री पदुमलाल पुन्‍नालाल बख्‍शी की द्वितीय कन्‍या श्रीमती सरस्‍वती देवी श्रीवास्‍तव का पिछले दिनों निधन हो गया। सरस्‍वत...

मंगलवार, 27 सितंबर 2011


हे दुर्गा नमो नमः महेश्वरी 

हे काली,महाकाली दुर्गेस्वरी !
तुझको नमन करता हुआ 
तेरा आह्वान करता हुआ 
करता हूँ मैं करबद्ध प्रार्थना 
इस जग के सारे असुरों का 
फिर से संहार कर दे ओ माँ !!
मेरे बस में है ये ना 
किसी और के बस में ही है 
ये तो बस अब ओ माँ 
केवल तेरे बस में ही है 
धरती के संग खेलने वालों का 
मानवता का संहार करने वालों का 
कमजोरों का रक्त पीने वालों का 
बेबसों का चीर हरने वालों का 
वंचितों की पीर बढाने वालों का 
हर इक ऐसे असुर का अब 
सिर्फ तुम ही कर सकती हो दमन
या फिर कुछ ऐसा कर दो कि 
सच्चे लोगों में शक्ति भर दो
जो इन सबका नाश कर सके 
ऐसे लोगों को धरती में भर दो  
हे दुर्गा नमो नमः महेश्वरी 
हे काली,महाकाली दुर्गेस्वरी !!

अंदाज ए मेरा: बमलई देवी.....

अंदाज ए मेरा: बमलई देवी.....: .छत्‍तीसगढ राज्‍य की सबसे ऊंची चोटी पर विराजमान मां बम्‍लेश्‍वरी की धरा पर आज से पूरे आठ दिनों तक आस्‍था का सैलाब उमडेगा। साल भर मां के दर...

सोमवार, 26 सितंबर 2011

आमंत्रण

सभी कविवर बँधुओँ को यह सूचित किया जाता है कि भारतीय हिन्दी साहित्य मंच ने 10 उत्कृष्ट कवियोँ एवं 10 अन्य साहित्यकारोँ को अपने मंच मेँ शामिल करने हेतु आमंत्रित किया है। इस विषय मेँ आवेदन करने हेतू अपनी एक उत्कृष्ट कविता अथवा गज़ल को bhartiyahindisahityamanch@gmail.com पर अपने नाम एवं ब्लॉग पता के साथ ईमेल करेँ।धन्यवाद।सभी कविवर बँधुओँ को यह सूचित किया जाता है कि भारतीय हिन्दी साहित्य मंच ने 10 उत्कृष्ट कवियोँ एवं 10 अन्य साहित्यकारोँ को अपने मंच मेँ शामिल करने हेतु आमंत्रित किया है। इस विषय मेँ आवेदन करने हेतू अपनी एक उत्कृष्ट कविता अथवा गज़ल को bhartiyahindisahityamanch@gmail.com पर अपने नाम एवं ब्लॉग पता के साथ ईमेल करेँ।धन्यवाद।

शनिवार, 24 सितंबर 2011

अंदाज ए मेरा: जब जानवर कोई इंसान को मारे.... वहशी उसे कहते हैं स...

अंदाज ए मेरा: जब जानवर कोई इंसान को मारे.... वहशी उसे कहते हैं स...: 1706। ये अधिकृत आंकडा था आज दोपहर करीब सवा दो बजे से पहले। जी हा ! भारत में बाघ यानि राष्‍ट्रीय पशु की मौजूदगी का आंकडा। सवा दो बजे के बा...

शुक्रवार, 23 सितंबर 2011

बोल रे परिंदे...कहाँ जाएगा तू.......



बोल रे परिंदे...कहाँ जाएगा तू.......
आसमां की किस हद को छू पायेगा तू....
आदमी के जाल से कब तक बच पायेगा तू.....
बोल रे परिंदे....कहाँ जाएगा तू....

तेरे घर तो अब दूर होने लगे हैं तुझसे 
शहर के बसेरे तो खोने लगे हैं तुझसे 
अब तो लोगों की जूठन भर ही खा पायेगा तू 
बोल रे परिंदे...कहाँ जाएगा तू.......

दिन भर चिचियाने की आवाजें आती थी सबको 
मीठी-मीठी बोली हर क्षण लुभाती थी सबको 
आदमी का संग-साथ कब भूल पायेगा तू....
बोल रे परिंदे...कहाँ जाएगा तू.......

बस थोड़े से दिन हैं तेरे,अब वो भी गिन ले तू 
चंद साँसे बस बची हैं,जी भरके उनको चुन ले तू.
फिर वापस इस धरती पर नहीं आ पायेगा तू....
बोल रे परिंदे...कहाँ जाएगा तू.......

बुधवार, 21 सितंबर 2011

जो तेरा है वो तेरा तो नहीं है....!!!




जो तेरा है वो तेरा तो नहीं है,
जो मेरा है वो मेरा तो नहीं है !
जो जितना अच्छा दिखता है 
देखो,वो उतना भला तो नहीं है!
ठीक है,वो चारागर होगा मगर 
बस इतने से वो खुदा तो नहीं है !
नजदीक से देखने से लगता है,
कहीं वो मुझसे जुदा तो नहीं है !
रह-रह कर कुछ टीसता-सा है ,
कहीं मुझको कुछ हुआ तो नहीं है !
कुछ जो भी यहाँ पर गहरा-सा है,
कभी हर्फों में वो बयाँ तो नहीं है !
हर जगह वो मुझसे छुपता है 
कहीं वो मेरा राजदां तो नहीं है !
हर पल बस तेरा नाम लेता हूँ,
ओ मेरे खुदा रे कहाँ तू नहीं है !
हर हद तक जाकर तुझको खोजा 
कहीं तू मेरे दरमियाँ तो नहीं है !
हर्फों का शोर ये समझ ना आये 
कहीं तू हर्फों में ही निहां तो नहीं है !!

रविवार, 11 सितंबर 2011

अंदाज ए मेरा: अध्‍ययन यात्रा बनाम दारू पार्टी.... !!!!!

अंदाज ए मेरा: अध्‍ययन यात्रा बनाम दारू पार्टी.... !!!!!: दारू जो कराए कम है ! और दारू की लत.... पूछो मत ! ! लोग अपना मान सम्‍मान और बाकी सब भूलकर दारू के लिए सब कुछ करने तैयार हो जाते हैं ! ! ...

शुक्रवार, 9 सितंबर 2011

क्या धमाके करने वाले किसी भी कोख से जन्म नहीं लेते !!??

कुछ धमाके होते हैं और 
उन धमाकों के साथ 
कुछ जिंदगियां तमाम....
उन धमाकों में है सन्देश 
किसी तरह की कायरता का 
एक अमानुषिक बर्बरता का 
जिसे धमाके करने वाले 
कहते हैं अपनी ताकत 
जिससे करते हैं वो 
सत्ता के खिलाफ जंग
जिसे कहते हैं वो 
कि यह ज़ुल्म के खिलाफ
जो भी हो मगर उनकी इस 
ताकत या कायरता का शिकार 
बनते हैं कुछ मासूम लोग 
बच्चे-बूढ़े और स्त्रियाँ भी 
जहां होते हैं धमाके 
वहां बिखर जाता है खून
बिछ जाती हैं लाशें और 
तड़पते हैं जीवित शरीर
जिसे देखकर हो जाता है 
हर कोई कातर-निर्विकल्प 
शून्य और संज्ञा रहित.....
और मर्मान्तक तक कहीं 
अतल गहरे में रोते हैं हम....
जिसे कहते हैं हम मानवता 
हम सब किसी ना किसी 
कोख से जन्म लेते हैं.....
क्या धमाके करने वाले 
किसी भी कोख से जन्म नहीं लेते !!??   

बुधवार, 7 सितंबर 2011

A new blog (Reader Blogs - Navbharat Times - India Times)

बड़ा ब्लॉगर वह है जो कमाता है

और डेल कारनेगी ने कहा है कि ‘आदमी को सबसे प्यारी आवाज़ उसके नाम की आवाज़ लगती है‘
ठग इस बात को जानते हैं और वे लोगों की इसी कमज़ोरी का फ़ायदा उठाकर अपनी रददी को किताब के भाव बेच भागते हैं।

देखिये कमाने के कुछ जायज़ तरीके (वीडियो)

सोमवार, 5 सितंबर 2011

मेरे अनुभव -पल्लवी जी का ब्लॉग

ब्लॉग का नाम-मेरे अनुभव 
ब्लॉग स्वामिनी का नाम व् परिचय -My Photo

Pallavi

मेरे बारे में

मैं भोपाल की रहने वाली हूँ और मैंने अपनी सम्पूर्ण शिक्षा भोपाल में ही प्राप्त की है। मैंने भोपाल के नूतन कालेज से बी.ए एवं अँग्रेज़ी साहित्य में एम.ए किया है। मैं एक साधारण सी ग्रहणी हूँ और पिछले 5 वर्षों से यहाँ लंदन में रह रही हूँ। मेरा ब्लॉग देख कर शायद आप को अजीब लगे कि मैं अँग्रेज़ी साहित्य में एम.ए होने के बावजूद भी हिन्दी में ब्लॉग क्यूँ लिखती हूँ । तो मैं यहाँ आप को बताना चाहती हूँ कि मैं हिन्दी के बहुत बड़े लेखक श्री मुंशी प्रेमचंद जी को बहुत पसंद करती हूँ और उन के लेखन की सरल भाषा को ध्यान में रखते हुए उनसे प्रेरित होकर मैंने अपने ब्लॉग की भाषा को भी सरल बना कर लिखने का प्रयास किया है। ताकि मेरे ब्लॉग को हर आयु, हर वर्ग, का व्यक्ति आसानी से समझ सके। पिछले एक वर्ष से ही मैंने ब्लॉग लिखना आरंभ किया है और मेरा विषय है (मेरे अनुभव)। यह विषय मैंने इसलिए चुना क्योंकि मुझे ऐसा लगता है, कि यही एकमात्र ऐसा विषय है जिस पर मैं खुल कर अपने विचार लिख सकती हूँ । क्योंकि मेरा ऐसा मानना है, कि विषय तो और अन्य भी है किन्तु उस में किसी की भावनाओं को जाने अनजाने में ठेस पहुँच सकती है। किन्तु मेरा विषय ऐसा है ,जिसमें इस बात की कोई गुंजाइश नहीं है। क्योंकि मैं जो कुछ भी लिखूँगी वो मेरे अपने विचार और अनुभव है। 

ब्लॉग का URL -http://mhare-anubhav.blogspot.कॉम
मेरी राय-लेखन का अलग अंदाज़ .विषय-चयन में माहिर हैं पल्लवी जी .मेरी ओर से उन्हें हार्दिक शुभकामनायें 
               आप भी होकर  आयें इनके ब्लॉग पर और बताएं अपने अनुभव .
                                        शिखा कौशिक 

रविवार, 4 सितंबर 2011

Nice Information ब्लॉगर्स मीट वीकली (7) Earn Money online


हाजी अब्दुल रहीम अंसारी साहब
कागज़ी समाजसेवी सबक़ लें ... 

 समाचार पत्रों में आप अक्सर समाजसेवियों के बारे में पढ़ते रहते है. किन्तु जो समाजसेवी समाचार पत्रों की सुर्खियाँ बनते है उसके पीछे कितनी सतनी सच्चाई होती है. शायद हर पत्रकार जानता है. ऐसे समाजसेवियों को आईना दिखने के लिए हैं.  हाजी अब्दुल रहीम अंसारी, एक ऐसा नाम जो उन लोंगो के लिए के लिए प्रेरणा श्रोत है जो खुद को समाजसेवी कहलाने के लिए परेशान रहते है किन्तु समाजसेवा का कोई कार्य नहीं करते. 

मूलतः संत रविदासनगर भदोही जनपद के काजीपुर मुहल्ले के रहने वाले अब्दुल रहीम अंसारी नगर के अयोध्यापुरी प्राथमिक विद्यालय में सहायक अध्यापक के पद पर कई वर्षो तक  कार्यरत रहे. २००७ में वे इसी विद्यालय से अवकाश प्राप्त किये, दो दिन घर पर रहने के बाद उन्हें एहसास हुआ की वे घर पर खाली नहीं रह सकते. लिहाजा फिर पहुँच गए उसी स्कूल जहाँ बच्चो को पढ़ाते थे, उन्हें देखते ही बच्चे चहक उठे. उन्होंने विद्यालय के प्रधानाचार्य से पढ़ाने की इच्छा जाहिर की और नियमित रूप से विद्यालय आकर पढ़ाने लगे. यही नहीं विद्यालय का लेखा जोखा पहले उन्ही के पास रहता था, दुबारा यह जिम्मेदारी उन्हें फिर सौंप दी गयी.  २००९ में उन्होंने हज भी किया. पांच वक़्त के नमाज़ी अब्दुल रहीम अभी तक नियमित रूप से विद्यालय  आकर बच्चो को शिक्षा देते रहते है. उन्हीं के दिशा निर्देश पर पूरा विद्यालय परिवार चलता है. एक बार विद्यालय के प्रधानाद्यापक और सहायक अध्यापक राजीव श्रीवास्तव ने उन्हें अपने वेतन से कुछ पारिश्रमिक देने की बात कही तो वे  भड़क उठे.  कहा आज भी सरकार उन्हें आधी तनख्वाह देती है. हराम का लेना उन्हें पसंद नहीं जब तक शरीर साथ देगा वे बच्चों को नियमित शिक्षा देंगे. यही नहीं वे होमियोपैथिक के अच्छे जानकर भी है. विद्यालय के बच्चे जब बीमार होते हैं तो वही दवा देते हैं.. यही नहीं जो भी उनके पास इलाज के लिए पहुँचता है. उसे भी दवा देते है. और इस दवा का वे कभी एक पैसा तक नहीं लेते. आज वे अपने मुहल्ले में वे सम्मान की दृष्टि से देखे जाते है.  आज जहा लोग पैसे के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते है. ऐसे में वे सम्मान जनक पात्र ही नहीं वरन पूरे समाज के लिए प्रेरणास्रोत  है.
सच इंसानियत, समाजसेवा का जज्बा हर इन्सान में होना चाहिए चाहे वह किसी भी धर्म का हो. ऐसे महान व्यक्तित्व को मैं सलाम करता हूँ. यदि ऐसे लोंगो का अनुसरण लोग करें तो जरा सोचिये समाज का क्या स्वरूप होगा. 

हाजी अब्दुल रहीम साहब के बारे में हमें यह सारी जानकारी हमारे मित्र हरीश सिंह जी ने दी है जो कि ख़ुद भदोही में ही रहते हैं। यह जानकर अच्छा लगता है कि हमारे बीच  अभी ऐसे  लोग मौजूद हैं जो कि अपने फ़र्ज़ पहचानते हैं और उसे अदा करते हैं और यह तो सोने पर सुहागे जैसा सुखद है कि यह सब करने वाला एक मुसलमान है।
हमारी दुआ है कि मुसलमानों को विशेष रूप से हाजी जी के अमल से प्रेरणा मिले और यूं तो वह हरेक के लिए एक प्रेरणा स्रोत हैं ही।
ब्लॉगर्स मीट वीकली में आज सबसे पहले हाजी अब्दुल रहीम साहब का ही ज़िक्र किया गया है। जिसे आप इस लिंक पर देख सकते हैं- 

A NEW BLOG-PUNEET KUMAR GARG

ब्लॉग-स्वामी का परिचय-मेरा फोटो

PuNeeT KuMaR GarG

मेरे बारे में

एहसास के दमन में आंसू गिरा कर देखो, दोस्ती कितनी सची है अजमा कर देखो, दोस्तों को भूल कर क्या होगी दिल की हालत, किसी आईने को ज़मी पे गिरा के देखो
* मेरी राय -सुन्दर भावाभिव्यक्ति -सार्थक विषय चयन
आप भी इस ब्लॉग का भ्रमण कर नए ब्लोगर का उत्साहवर्धन करें .आपका दिन शुभ व् मंगलमय हो
शिखा कौशिक

शनिवार, 3 सितंबर 2011

A NEW BLOG -MY MUSINGS

A NEW BLOG -MY MUSINGS
 BLOG-OWNER -AARKAY
BLOG'S URL -http://aarkay-musings.blogspot.com
RESENT POST-Ganesh Chaturthi or Pathar Chauth
MY VIEW-UNIQUE PRESENTATION & STRONG EXPRESSION .
                              DO NOT THINK SO MUCH .YOU MUST VISIT THIS BLOG .THIS IS REALLY READABLE .
                                      HAVE A NICE DAY .
                                                                      
                                       SHIKHA KAUSHIK 

गुरुवार, 1 सितंबर 2011

नई जानकारी देता है यह ब्लॉग

क्या हैं रूटीन करप्‍शन और प्‍लैन्‍ड करप्‍शन

जयती गोयल 
(http://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/jayablogs/entry/%E0%A4%95-%E0%A4%AF-%E0%A4%B9-%E0%A4%B0-%E0%A4%9F-%E0%A4%A8-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A4%AA-%E0%A4%B6%E0%A4%A8-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%AA-%E0%A4%B2-%E0%A4%A8-%E0%A4%A1-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A4%AA-%E0%A4%B6%E0%A4%A8)

देश में दो तरह का भ्रष्‍टाचार है।  एक तो आम जनता से जुड़ा जिससे जनता रोज मर्रा की जिंदगी में जूझती है यानी  'रूटीन करप्‍शन' । दूसरा, सत्‍ता सुख भोगने वाले नेताओं की सोची-समझी योजना के तहत किया जाने वाला भ्रष्‍टाचार यानी  'प्‍लैन्‍ड करप्‍शन' .
 
रूटीन करप्‍शन के तहत---- राशन कार्ड बनाने, जाति प्रमाण पत्र जारी करने, बिजली कनेक्‍शन जारी करने, स्‍कूल-कॉलेज में दाखिला आदि आते हैं / इसमें सरकारी नौकरशाहों का फायदा ज्यादा होता है अनुमान के तौर पर करीब ६०-७०% की रकम इनलोगों की जेब में जाती है इस भरष्टाचार से /

प्‍लैन्‍ड करप्‍शन  के तहत ---- 2जी घोटाला, सीडब्‍ल्‍यूजी घोटाला, खाद्यान्‍न घोटाला, नोएडा जमीन घोटाला आदि आते  हैं। 

 दोनों ही तरह के करप्‍शन में बढ़ोतरी हो रही है। रूटीन करप्‍शन में रिश्‍वत की रकम बढ़ रही है, तो प्‍लैन्‍ड करप्‍शन में घोटालों के नए-नए तरीके ईजाद हो रहे हैं।