Google+ Followers

मंगलवार, 20 दिसंबर 2011

तो फिर कह दो कि ईश्वर नहीं है....नहीं है.....नहीं है....!!


मैं भूत बोल रहा हूँ..........!!
   बहुत दिनों से दुनिया के तरह-तरह के धर्मग्रंथों-दर्शनशास्त्रों,धर्मों की उत्पत्ति-उनका विकास और भांति-भांति के लोगों द्वारा उनकी भांति-भांति प्रकार की की गयी व्याख्यायों को पढने-समझने-अनुभव करने की चेष्टा किये जा रहा हूँ,आत्मा-ईश्वर-ब्रह्माण्ड,इनका होना-ना होना,अनुमान-तथ्य-रहस्य-तर्क, तरह-तरह के वाद-संवाद और अन्य तरह-तरह विश्लेषण-आक्षेप तथा व्यक्ति-विशेष या समूह द्वारा अपने मत या धर्म को फैलाने हेतु और तत्कालीन शासकों-प्रशासकों द्वारा उसे दबाने-कुचलने हेतु किये गए झगडे-युद्द यह सब पता नहीं क्यों समझने-समझाने से ज्यादा मर्माहत करते हैं,मगर किसी भी प्रकार एक विवेकशील व्यक्ति को ये तर्क मनुष्य के जीवन में उसके द्वारा रचे गए अपने उस धर्म-विशेष को मानने की ही जिद का औचित्य सिद्द करते नहीं प्रतीत होते !! 
          धर्म की महत्ता अगरचे मान भी लें तो किसी एक वाद या धर्म के प्रचार-प्रसार हेतु किये गए,किये जा रहे युद्दों का भी औचित्य समझ से परे लगता है,अगर यही है धर्म, तो धर्म हो ही क्यों ??     
           धरती पर तरह-तरह के मनुष्यों द्वारा तरह-तरह का जीवन बिठाये जाने के आधार पर पूर्वजन्मों के औचित्य....किसी नालायक का ऐश-विलास-भोग आदि देखकर या किसी लायक का कातर-लोमहर्षक जीवन देखकर कर्म-फल-श्रृंखला और कर्मफलों का औचित्य.....सिद्द किया जाता है !! यानी कि जो कुछ हमें तर्कातीत प्रतीत होता है,उसे हम रहस्यवादी बातों द्वारा उचित करार दे दिया करते हैं और मुझे यह भी अजीब लगता है कि कोई वहशी-हरामखोर-लालची-फरेबी-मक्कार-दुष्ट व्यक्ति,जो करोड़ों-अरबों में खेलता हुआ दिखाई देता है,या जो तमाम आस्था-श्रद्धा और विवेकवान होने के बावजूद फाकामस्ती-तंगहाली में एकदम फटेहाल जीवन जीने को अभिशप्त है,तिस पर भी अन्य तरह-तरह की आपदाएं....इन सबमें साम्य क्या क्या है ...??कर्म-फल...!!??
           इस तरह के प्रश्न विवेकवानों द्वारा पूछे जाते हैं कि समाज में इतनी घोर अनैतिकता क्यों है ??क्यों कोई इतना गरीब है कि खाने के अभाव में, छत के अभाव में,दवाई के अभाव में,या कपड़ों के अभाव में ठण्ड से या लू से या बाढ़ से मर जाता है ??तरह-तरह की आपदाओं और बीमारियों से जूझने,उस दरमियान संचित धन के ख़त्म हो जाने और उसके बावजूद पीड़ित के मर जाने और उसके बीवी-बाल-बच्चों के एकदम से सड़क पर आ जाने की घटनाएं भी रोज देखने को मिलती हैं !!....फिर भी ईश्वर है ! और यह सब होना हमारे की कर्मों का फल !!
         मगर दरअसल इस प्रश्न को ठीक पलट कर पुछा जाना चाहिए (ईश्वर है-नहीं है के तर्कों को परे धर दीजिये) कि कोई बेहद धनवान है और हम यह भी जानते हैं कि यह धन उसने येन-केन-प्रकारेण या किस प्रकार पैदा या संचित किया है,या हडपा है या सीधे-सीधे ना जाने कितनों के पेट पर लात मारकर कमाया है !!(या हरामखोरी की है!!)और वो इतना क्रूर है कि उस-सबके बावजूद...अपने समाज में व्याप्त इस असमानता के बावजूद (जिसका एक जिम्मेवार वो खुद भी है !!) वो अपने संचित धन के वहशी खेल में निमग्न रहता है...अगर ईश्वर है, तो उसके भीतर भी क्यों नहीं है और अगर उसके भीतर नहीं है तो फिर हम यह क्यों ना मान लें कि ईश्वर नहीं ही है !!??
           अगर ईश्वर है तो सबमें होगा,होना चाहिए !! अगर ईश्वर है तो मानवता इतनी-ऐसी पीड़ित नहीं होनी चाहिए !! अगर ईश्वर है तो कर्मफल का बंटवारा भी वाजिब होना चाहिए !!.....मगर जो फल हम आज भोग रहें हैं,वो तो हमारे किसी अन्य जन्मों का सु-फल या कु-फल हैं ना....!! तो बस इसी एक बात से तो ईश्वर होने की बात,उसके होने की उपादेयता भी साबित हो जाती है !!
           इस तरह की बातों पर माथा-फोड़ी करने के बजाय अगर हम इस बात पर विचार कर पायें,तो क्या यह बेहतर नहीं होगा कि हम अगर खुशहाल हैं और हमारे पास इतना अधिक धन है कि ना जाने हमारी कितनी पीढियां उसे खाएं....फिर भी हमारे ही आस-पास कोई भूख से-ठण्ड से-दवाईयों के अभाव में या छत के अभाव में मर जाए,तो ऐसा क्यों है,अगर हमारे खुद के भीतर ईश्वर नहीं है तो फिर क्यूँ ना हम यह कह दें कि ईश्वर नहीं है,क्योंकि अगर वो है,तो या तो हमारे होने पर थू-थू है और हम गलीच हैं या हममे मौजूद ऐसे लोगों की क्रूरता धन्य है,जो दिन-रात पत्र-पत्रिकाओं और अन्य मीडिया द्वारा चिल्लाए जाते रहने के बावजूद किसी बात पर नहीं पसीजते और पसीजेंगे भी क्यों, क्योंकि वो तो जिस पत्थर के बने हुए हैं उसी के कारण तो शोषण-अत्याचार की सहायता से तरह-तरह ठगई द्वारा यह सब करते हैं,धन कमाने के लिया ह्त्या तक भी करते-करवाते हैं !! अगर फिर भी ईश्वर है तो होगा किसी की बला से !!
           आदमी में व्याप्त तरह-तरह की सदभावनाओं दया-भावों के बावजूद अगर कुछ लोग इन सब बातों से अछूते रहकर सिर्फ-व्-सिर्फ धन कमाने को ही अपना लक्ष्य बनाए धन खाते-पीते-पहनते-ओढ़ते आखिरकार मर जाते हैं और उनको जलाकर दफनाकर कब्रिस्तान-श्मशान में ऊची-ऊंची आध्यात्मिक बातें करने के बावजूद हम घर लौटकर वही सब करने में मशरूफ हो जाते हैं तो फिर भला ईश्वर कैसे है ??
            हमारे होने के बावजूद यदि सब कुछ ऐसा है और ऐसा ही चलता रहने को है तो फिर सच कहता हूँ कि हम सब धरती-वासियों को एक साथ खड़े होकर जोर की चीत्कार लगानी चाहिए कि तो फिर कह दो कि ईश्वर नहीं है....नहीं है.....नहीं है....!!
--
http://baatpuraanihai.blogspot.com/

3 टिप्‍पणियां:

रेखा ने कहा…

जागरूक कर देने वाला सार्थक आलेख ....

कविता रावत ने कहा…

badiya chintan-manan!

dinesh aggarwal ने कहा…

सही सवाल उठाये हैं आपने, ईश्वर है ऐसा एक भी
प्रमाण नहीं है। किन्तु ईश्वर नहीं है, इसके अनेकों
प्रमाण हैं।
सटीक एवं तार्किक आलेख के लिये बधाई...