Google+ Followers

रविवार, 31 मार्च 2013

हिंदी चिट्ठाकारों के लिए सुनहरी सौगात -साहित्य सुगन्ध

हिंदी चिट्ठाकारों के  लिए  सुनहरी  सौगात  !
 साहित्यकारों की रचनाओं को प्रकाशित करने के लिए  ये पृष्ठ बनाया गया है।
साहित्य सुगन्ध

साहित्य सुगन्ध
इस पृष्ठ को लाइक कीजिए और साथ ही आप भी कोई साहित्यिक रचना लिखते हैं तो पृष्ठ पर आपका स्वागत है। आपके नाम से पृष्ठ पर रचना प्रकाशित की जाएगी।
धन्यवाद।

 एक प्रकाशित प्रस्तुति पठनीय है -

Mohd Irfan Allahabad Se
हमारी बेबसी देखो उन्हें हमदर्द कहते हैं !
जो उर्दू बोलने वालों को दहशतगर्द
कहते हैं !!
मदीने तक में हमने मुल्क की ख़ातिर दुआ
मांगी !
किसी से पूछ ले इसको वतन का दर्द
कहते हैं !!
किसी भी रंग को पहचानना मुश्किल
नहीं होता
मेरे बच्चों की सूरत देख इसको ज़र्द कहते
हैं !!
अगर दंगाइयों पर तेरा कोई बस
नहीं चलता !
तो फिर सुन ले हुकूमत हम तुझे नामर्द
कहते हैं !!
वो अपने आपको सच बोलने से किस तरह
रोकें !
वज़ारत
को जो अपनी जूतियों की गर्द कहते
हैं !! —
शिखा कौशिक 'नूतन '

4 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

.सराहनीय प्रयास हार्दिक शुभकामनायें जया प्रदा भारतीय राजनीति में वीरांगना .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

सतवीर वर्मा ने कहा…

पृष्ठ का लिंक यहाँ देने के लिए धन्यवाद हिन्दी चिट्ठाकार जी।

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत सुन्दर पोस्ट शिखा जी बधाई और सुनहरी कलम पर आने हेतु आभार |

shyam Gupta ने कहा…

सुन्दर ग़ज़ल...